भाकियू व कर्मचारी-शिक्षक करेंगे नोटा आॅप्शन का प्रयोग

0

JNI NEWS : 10-04-2014 | By : वीरभान | In : Uncategorized

लिया गया सामूहिक निर्णय
मैनपुरी से सैकड़ो लोग दबाएंगे ईवीएम का नोटा बटन

DSCN2981 copy

DSCN2992 copyमैनपुरी।
मजबूरी में अब तक नापसंद उम्मीदवारों को ना चाहते हुए भी चुनने वाले मतदाताओं को इस बार चुनाव आयोग ने नोटा आॅप्शन के तौर पर एक अहम विकल्प प्रदान किया है। लोकसभा क्षेत्र मैनपुरी में भारतीय किसान यूनियन एवं राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद से जुडे हजारों मतदाता इस बार नोटा विकल्प का उपयोग करके सभी प्रत्याशियों को नकार देंगे। एक सामूहिक बैठक में यह निर्णय लेकर उसे सार्वजनिक किया गया है।
भारतीय किसान यूनियन की जिला इकाई की पंचायत एक स्कूल में संपन्न हुई। यहां पंचायत को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष तिलक सिंह राजपूत ने कहा कि हम किसानों को सदैव ही राजनेताओं ने अपनी जीत का आधार बनाया है। वोट बैंक के लिए हमारा उपयोग किया और आजादी के बाद से लगातार शोषण करते आए हैं। उन्होंने कहा कि किसानों के लिए सैकडों योजनाएं बनीं, बावजूद इसके किसान को आत्महत्या करनी पड रही है। महाजनों के कर्ज के बोझ तले किसान मर रहा है और सरकारें कागजों में सब्सिडी बांट रही हैं।
जिला उपाध्यक्ष अहिबरन सिंह यादव ने कहा कि जनपद मैनपुरी किसानों की धरती है लेकिन यहां किसान का विकास नहीं हुआ। आज भी खाद, बीज, बिजली और पानी के किसानों को अपना खून बहाना पडता है। बिना किसान की मर्जी के सरकारें जमीनों का अधिगृहण कर पूंजीपतियों के हाथों में बेच देती हैं। पंचायत में सार्वजनिक तौर पर यह निर्णय लिया गया कि इस बार जिले का किसान किसी भी प्रत्याशी को वोट नहीं देगा। वह अपना वोट आयोग द्वारा दिए गए नोटा विकल्प का बटन दबाकर देगा। पंचायत में राजा ठाकुर, योगेन्द्र दुबे, हरीसिंह, दम्मीलाल फौजी, राधेश्याम शाक्य, डा. जेएन वर्मा, हाकिम सिंह यादव सहित बडी तादाद में किसान मौजूद थे।
वहीं दूसरी ओर उत्तर प्रदेश डिप्लोमा इंजीनियर्स महासंघ के सौजन्य से राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के तत्वावधान में कर्मचारी-शिक्षकों ने बृहस्पतिवार को नगर में रैली निकालकर लोगों को नोटा विकल्प के बारे में बताया। कर्मचारी-शिक्षकों ने कहा कि आज तक सरकारें सिर्फ उन्हें आश्वासन ही देती आई हैं लेकिन उनकी मांगों पर विचार नहीं किया गया। अब उन्हें ऐसे नेता नहीं चाहिए जो उनकी नुमाइंदगी न कर सकें। कर्मचारी-शिक्षकों ने ऐलान किया है कि इस बार उनके हजारों साथी नोटा विकल्प का उपयोग करके अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।

इस लेख/समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया लिखें-