खून का बदला खून की तर्ज पर हुई रंजिशन हत्या

0

JNI NEWS : 13-04-2014 | By : वीरभान | In : Uncategorized

पहले मारी गोली, फिर धारदार हथियारों से किए कई वार

औंछा/मैनपुरी।
औंछा थाना क्षेत्र में खून का बदला खून की तर्ज पर नामजदों ने एक व्यक्ति की उस वक्त निर्ममतापूर्वक हत्या कर दी, जब वह दावत में शामिल होने गया था। रक्त रंजित शव को लावारिस पडा छोडकर हत्यारे फरार हो गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया है। मृतक के भाई ने नामजदों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। खबर लिखे जाने तक हत्यारे पुलिस की पकड से दूर थे।
औंछा थाना क्षेत्र के ग्राम बुढर्रा निवासी 36 वर्षीय लाखन सिंह कठेरिया पुत्र स्व. अशरफीलाल रविवार की शाम गांव के ही रहने वाले बेंचेलाल के पुत्र शिवपाल की लग्नोत्सव की दावत में शामिल होने गए थे। आरोप है कि तभी पुरानी रंजिश को लेकर गांव के ही भंवर सिंह उर्फ करमवीर, जयकेश, बरफ सिंह पुत्रगण अशरफीलाल, संतोष एवं मंतोष पुत्रगण निशान सिंह, जयवीर पुत्र बरफ सिंह, रामप्रसाद पुत्र मंगली, आशू पुत्र रामनरेश ने एकराय होकर लाखन सिंह को घेर लिया और मारपीट शुरू कर दी। आरोप है कि दावत के ही दौरान नामजदों ने लाखन सिंह को पहले गोली मारी और बाद में धारदार हथियारों से प्रकार कर उसकी हत्या कर दी तथा शव के पडा छोडकर फरार हो गए। आरोप है कि जब लाखन की मां कुण्ठी देवी अपने पुत्र को बचाने पहुंची तो नामजदों ने उसे भी मारपीट कर घायल कर दिया। वारदात को अंजाम देने के बाद नामजद मौके से फरार हो गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया है। मृतक के भाई ने नामजदों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है।

15 साल पुरानी है रंजिश
बताते हैं कि 29 जुलाई 1998 को बच्चों के विवाद में दोनों परिवारों के बीच झगडा हुआ था जिसमें दोनों ही पक्षों के लोगों को जेल भेजा गया था। आरोप है कि जमानत पर रिहा होने के बाद निशान सिंह के परिजनों ने लाखन सिंह के परिवार की महिलाओं के साथ अभद्रता की थी। इस बात से नाराज लाखन सिंह ने जेल से रिहा होने के बाद निशान सिंह की लाठी-डंडों से पिटाई की थी जिसमें बाद में निशान सिंह की मौत हो गई थी। इसी बात को लेकर दोनों पक्षों में रंजिश चली आ रही थी। रविवार को मौका पाकर निशान सिंह के परिजनों ने लाखन सिंह की निर्ममता से हत्या कर दी।

इस लेख/समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया लिखें-