हमारे बारे में

हमारे बारे में

प्रिय पाठको,

हमारे पाठक हमारी आंख ओर कान हैं। आप जैसे सुधी पाठकों के माध्‍यम से हमें जो सूचनायें मिलती हैं, हम उनपर काम करते हैं, और भृष्‍टाचार या समस्‍या को सामने लाने का प्रयास करते हैं। आपके पास भी यदि कई सूचना है तो कृप्‍या हमारे साथ अवश्‍य बांटें।

खबरें बनती हैं आपके आसपास की हर हलचल से। समस्याओं को जनमंच पर लाकर उन्हें जिम्मेदारों तक ले जाना और स्थायी समाधान कराना ही हमारा ध्येय है। हमारे इस ध्येय को आपका विश्वास भरा साथ मिले, तो निश्चित ही समाज का यह चैथा स्तम्भ अपनी सार्थकता सिद्ध कर पाएगा।

अगर आपके आस-पास भी घटती है कोई घटना…..जो बन सकती है हमारे जेएनआई की सुर्खी…..तो जरूर भेजें वो खबर। हमें फोन करें…..
वीरभान सिंह, मैनपुरी डेस्क, मोबाइल – 9412442410
अथवा ई-मेल करें
veerbhan.mainpuri@gmail.com

Concept of Micro Journalism

जेएनआई का गठन का गठन भारत के उन ग्रामीण और नगरीय अंचलो में खबर पहुचाने के लिए किया गया है जो आज भी मीडिया की पहुच से बाहर है| भारत की कुल आबादी तक आज भी समाचार से सम्बंधित पारंपरिक मीडिया (टीवी अख़बार और रेडियो) की पहुच कुल 27% है| देश की 73% जनता आज भी समाचारों की दुनिया से दूर है| देश बढ़ते भ्रष्टाचार का यह भी एक बड़ा कारन है कि जनता को न तो उसके अधिकार मालूम हैं और न ही सरकार द्वारा दी जा रही सुविधाओं के बारे में| अज्ञानता के कारन बीच के सरकारी और गैर सरकारी बिचौलिए उस 73% आबादी का हिस्सा हड़प कर जाते हैं और चाह कर भी सरकार और वास्तविक जनसेवक कुछ नहीं कर पाते| कारण यही था कि उन तक कुछ भी पहुचाने या फिर जाग्रत करने के साधन बहुत सीमित थे|

सफलता की पहली सीढ़ी

मगर जेएनआई ने नया प्रयोग किया| देश की 65% आबादी के पास मोबाइल पहुच चूका है और हमने इसका बखूबी इस्तेमाल किया| गाँव और शहर के उन लोगो तक जो पारंपरिक मीडिया (टीवी अख़बार और रेडियो) की पहुच से दूर हैं उन्हें SMS द्वारा खबरे और सूचनाएँ भेज जागृत करने में सफलता पायी| वहीँ इन्टरनेट वेब पोर्टल पर उन्ही खबरों को लगाकर देश और दुनिया के कोने कोने में उनकी आवाज पहुचाने का प्रयास किया जा रहा है| ध्यान रहे जेएनआई का उद्देश्य कहीं से भी यह नहीं है कि हम SMS से तुरंत खबर भेज कोई धमाका कर दे या फिर अधिकारिओ और सत्ता पर दबाब बनायें| इसीलिए सिर्फ और सिर्फ जेएनआई ही देश की पहली वो समाचार एजेंसी बनी है जो गाँव गाँव पहुच रही है|

पायलट प्रोजेक्ट के बाद विस्तारीकरण

विस्तारीकरण लगातार जारी है| उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जनपद में इसका पायलट प्रोजक्ट चार साल पहले 4 अप्रैल 2009 को शुरू किया गया था| एक साल में ही एक जनपद फर्रुखाबाद के 62000 मोबाइल धारको ने सेवाओं के लिए SMS आवेदन किया जिसमे 65% आवेदक ग्रामीण अंचल से थे| एक जनपद में पायलट प्रोजेक्ट के पूरा होते ही इसका विस्तारीकरण पर काम शुरू हुआ| फर्रुखाबाद जनपद में ही जनवरी 2013 तक 129612 मोबाइल धारको को जेएनआई के समाचार मिलने लगे है| यही नहीं JNI वेब पोर्टल पर खबरे पढ़ने वालों की संख्या भी 100000 को पार चुकी है| गूगल अनालिटिक रिपोर्ट के अनुसार जून 2013 के माह में 10 लाख से ज्यादा खबरे प्रति माह इस पोर्टल पर पढ़ी गयी है| आज फर्रुखाबाद जनपद में सभी अखबारों और टीवी मीडिया को पाठक संख्या और लोकप्रियता में JNI पीछे छोड़ चुकी है|

हम अपने सभी ऑनलाइन पाठकों का स्वागत करते हैं। इस न्यूज़ पोर्टल पर आपको आपके आसपास, देश और दुनिया की सभी बड़ी ख़बरें मिलेंगीं और ख़बरों के पीछे की ख़बर भी। प्रकाशन हेतु आप लोग भी अपने विचार हमें भेज सकते हैं लेकिन निवेदन सिर्फ ये है कि www.jnilive.com को सिर्फ और सिर्फ ख़बरों और विचारों के आदान-प्रदान का मंच समझें। किसी भी प्रकार की चुगली/खुन्नस/भड़ास या रंजिश को शाब्दिक आधार पर भुनाने के लिए www.jnilive.com का इस्तेमाल सर्वथा वर्जित है। हमारे ज़रिए किसी व्यक्ति अथवा संस्था के मान-मर्दन की अनुमति कतई नहीं है।

ये वेबसाइट विशुद्ध रूप से एक ऐसा मंच है जहां समस्त पत्रकार, छात्र-छात्राएं और आम जन विभिन्न मुद्दों पर अपनी राय, विचार, पक्ष, आंकलन, आपत्ति लिख सकते हैं। आपकी मौलिक अथवा साभार कृतियां सादर आमंत्रित हैं। अगर संभव हो सके, तो अपनी कृतियों के साथ अपनी तस्वीर और संदर्भ से संबंधित तस्वीरें (अगर हों तो) भी भेजिए। संपादकीय टीम की स्वीकृति के पश्चात आपका लेख www.jnilive.com पर प्रकाशित कर दिया जाएगा।

संपादकीय टीम के लिए ये कतई ज़रूरी नहीं है कि आपकी हर कृति को प्रकाशित किया ही जाए। आपत्तिजनक/असंवैधानिक/अनैतिक तथ्यों का प्रकाशन किसी भी दशा में नहीं किया जाएगा। तो फिर, इंतज़ार किसका है? आज से ही शुरू हो जाइए। जो आपके दिल में है, लिख डालिए और भेज दीजिए हमें jninews@gmail.com पर।

इस पोर्टल का स्वामित्व Joint News of India (R) कम्पनी के पास हैं। JNILIVE, JNINEWS, Joint News of India का ब्रांड टीवी पत्रकार पंकज दीक्षित के पास सुरक्षित है, इससे मिलते जुलते नाम का मीडिया सन्दर्भ में प्रयोग, वैधानिक नियमो का उल्लंघन होगा|
पत्र व्यवहार के लिए संपर्क करें…

Joint News of India
2B/116, Awas Vikas
Farrukhabad- Uttar Pradesh
पिन- 209625
फोन & फैक्स: +91-5692-241135
मोबाइल: +91-9415-333325

सम्पादकीय टीम:
पंकज दीक्षित- प्रशासक/मुख्य संपादक- जेएनआई
अलोक श्रीवास्तव- सम्पादक- सुल्तानपुर
हेमंत कौशिक- सम्पादक- बुलंदशहर
विष्णु शरण रस्तोगी- सम्पादक मेरठ
नदीम चौहान- सम्पादक शामली
जगेन्द्र सिंह- शाहजहांपुर
वीरभान सिंह- मैनपुरी

पाठक की प्रतिक्रिया (2)

shiv charan singh rajput alipur khera

PURE JILE KI PURI KHABAR EK JAGAH MIL JATI HAI

इस लेख/समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया लिखें-